Home » Posts tagged "Weakness"

First Aid Treatment of Snake bite its causes and diagnose-Bites and Stings

Snake bite There are about 3000 species of snakes, of which only 250-300 are poisonous. Snakes commonly found in our country are king cobra, common cobra, common krait, common striped krait, pit viper and Russell’s viper. All snakes are not poisonous. All snake bites are not fatal. Most people die from fear and not the venom. Most snakes bite dangerous, because when the snake bites in defense, little or no...

Read More »

Medicinal use of Skullcap in Delirium Tremens, Hydrophobia, Poisonous Snake bites

Skullcap: Scutellaria Lateriflora Part used: Whole plant Nervine, tonic, antispasmodic One of the best tonic nerviness. Combined with cayenne and golden seal it cannot be surpassed for heart weakness. With lady slipper it is the best nerve tonic. Useful in hydrophobia and poisonous snake bites. Effective in delirium tremens, St. Vitus Dance, shaking palsy, convulsions. Equal parts of skullcap, nerve root, hops, catnip and black cohosh aids in morphine addiction....

Read More »

Medicinal use of Pitvan in Weakness, Fever, Asthma, Diarrhea and Blood Clean

पिटवन यह बूटी अधिकतर बंगाल, असम, त्रिपुरा, सिकिक्म, भूटान में अपने-आप यानि प्राकृतिक रूप से पैदा होती है । इसके पत्ते गोल होते हैं । उनका रंग नीला तथा सफेद होता है । काम में इसकी केवल जड़ ही आती है । गुण तथा लाभ तासीर में गर्म, मधुर, सारक, कटुतिकत तथा शमन है । इससे त्रिदोष रोग का उपचार किया जाता है । मर्दाना कमजोरी में भी इसका सेवन...

Read More »

Medicinal use of Kasoda Plant in Weakness, Constipation, Body Head, Itching.

क्सौदा इसका पौधा धरती से दो-तीन फुट ऊंचा होता है, इसकी पत्तियां जामुन की पत्तियों जैसी ही, उसी आकार की होती हैं । इसकी कोई फसल नहीं बोई जाती । यह प्राकृतिक रूप से धरती से जन्म लेता है । इस पर पीले रंग के फुल आते हैं और चपटी फलियां फल के रूप में लगती हैं । फलियों के अंदर पपटे रंग के बीज होते हैं । कुछ लोग...

Read More »

Medicinal use of “White Gourd” Herbal Medicinal Fruit.

White Gourd Among the nature’s gift for our health and vitality is white Gourd or ‘Petha’ as it is locally known. White gourd id considered to be beneficial as per our traditional therapies. In Ayurveda, it is known by the name ‘kushmand’ i.e. the seeds of which do not remit heat. The Latin name of the herb is Benincasa hispida and it belongs to the family Cucurbitaceae. Properties Gourd is...

Read More »

“Dry Ginger (सांतव सोंठ)” multiple uses in Ayurveda

सांतव सोंठ सोंठ वादी को मारने वाली एक जड़ी है । इसका सेवन करने के लिए – सोंठ 10 ग्राम गुड़ 40 ग्राम इन दोनों को मिलाकर खाने से हर प्रकार कर दर्द शरीर में से बहार निकल जाता है । 10 ग्राम सोंठ को पीसकर नमक में मिलाकर घी में तल लें । अब इसे थोड़ा-थोड़ा सुबह-शाम खाना शुरू करें तो आपका शरीर चुस्त रहेगा । सफेद मुसी इससे...

Read More »

“Gram (Chickpeas)” benefits for humen body in Ayurveda

चना चना न तो कोई जड़ी-बूटी है न ही कोई वृक्ष | यह खेती-बाड़ी द्वारा पैदा  होने वाला एक पारकर का गुणकारी अनाज है | इसका पौधा एक फुट अथवा कुछ अधिक बड़ा होता है | इसकी फसल फरवरी-मार्च मास में पककर तैयार होती है | चना कच्चा हो या पक्का या इसके पत्ते हों, इसे हर पारकर से खाने के लिए उपयोगी माना गया है | चना एक है...

Read More »

“Bassia Latifolia (महुआ)” beneficial in snake bite, Arthritis or diseases

महुआ महुआ का वृक्ष काफी बड़ा और घना होता है, इस के पत्ते पीपल के पत्तों की भांति बड़े परंतु लंबाई में होते हैं । महुआ के फुल सफेद तथा फल हरा होता है | यह प्रकृति पौधा है | इसकी फसल बोई नहीं जाती | यह जंगलों में ही आम पाया जाता है | इसके फल, फुल, पत्ते, छाल सब के सब काम आते हैं । गुण तथा लाभ...

Read More »

Health benefits of Summer fruit “Plum (आलूबुखारा)” in Ayurveda

आलूबुखारा यह एक मौसमी फल है जो गर्मी के मौसम में ही आता है | इसकी तासीर ठंडी होती है | जिन लोगों के शरीर में अधिक गर्मी होती है, उनके लिए आलूबुखारे का सेवन अच्छा रहता है, जो लोग किसी रोग के कारण दुर्बल हो गए हो उन्हें प्रतिदिन ½ किलो आलूबुखारे या उसके रस का सेवन करना चाहिए |   Plum This is a seasonal fruit which comes...

Read More »