Home » Posts tagged "Worm Diseases"

Medicinal use of Wood Betony in Insanity, Neuralgia, Heartburn, Indigestion, Hepatitis, Palsy Convulsions, Gout, Colic, Dropsy

Wood Betony: Betonica officinalis Part used: Leaves Aperients, stomachic, nervine, tonic , antiscorbutic Excellent for headache, insanity, neuralgia, stomach trouble, heartburn, indigestion, stomach cramp, hepatitis, palsy convulsions, gout, colic, nervous ailments dropsy, colds, ‘flu poisonous bites. Expels worms. Opens obstruction of spleen and liver. A  good formula is two parts wood betony, one part skullcap, one part sweet flag. It is a valuable herb.

Read More »

Medicinal use of Gajpit in Constipation, Sore Throat, Worm Disease

गजपीठ यह छोटा-सा पौधा जड़ी-बूटी ज्ञान में अपनी अलग से एक पहचान रखता है जैसे कि आप चित्र में इस पौधे की चित्र देख रहें हैं । इसके पत्ते बहुत चौड़े और उनके अंदर से फलदार डंडी निकलती है । इसकी तासीर गर्म, रुक्ष, तीक्ष्ण तथा कब्ज को दूर करने वाली है । अतिसार, श्वास, कंठ और कृमि रोगों से मानव को बचाया जा सकता है । Gajpit This little...

Read More »

Medicinal use of Nisit in Constipation, Worm, Phlem, Spleen, Stomach, Pile and Heart Disease

निसीत निसीत हमें कई रंगों में उपलब्ध होती है । 1. सफ़ेद 2. श्याम 3. लाल 4. काली सफेद निसीत की बेल जंगलों में होती है । इस पर सफेद रंग के फुल आते हैं, उनमें चार-चार बीज होते हैं । इसके पत्ते नुकीले तथा गोल होते हैं । इस बील की लकड़ी में तीन धारे होती हैं । सफेद निसीत को सबसे अच्छा गुणकारी माना जाता है । काली...

Read More »

Medicinal use of Sarfinka in Fever and Bad Breath

सरफींका यह बूटी प्राकृतिक रूप से ही पहाड़ी क्षेत्रों में जन्म लेती है । इस पर लाल रंग के छोटे-छोटे फुल आते हैं, जो बाद में फलियों का रूप धारण कर लेते हैं । उनमें से सफेद रंग के फल निकलते हैं । लाभ सरफोंक की जड़ को हुक्के की चिलम में भर कर पीनसे से सांस का रोग नष्ट हो जाता है, इसके पौधे की पहचान के लिए चित्र देखें...

Read More »

“Indian beech (करंज)” beneficial in Digestive diseases, Worm disease, Cough

करंज करंज के पेड़ बहुत बड़े होते हैं, जो घने जंगल में मिलती हैं । फुल हलके आसमानी रंग के, फल भी उसी रंग में नजर आते हैं । यह प्रकृतिक रूप से पैदा होने वाला वृक्ष है । गुण तथा लाभ पेट रोगों के लिए लाभदायक, नेत्र रोगों को दूर करने वाला, स्वाद में कड़वा, अर्श, प्रमेह, प्लीहा अदि रोगों को दूर करता है । खांसी व् कृमि रोगों...

Read More »