Home » Posts tagged "Herbal treatment" (Page 2)

अलसर से आंतो की बीमारी के कारण तथा उपचार

आँतों का दुश्मन: अल्सर जिस प्रकार मुहं में अथवा जीभ पर चाले हो जाते हैं , उसी प्रकार आमाशय की भीतरी परत पर अथवा छोटी अंत के उपरी हिस्से से जुड़े दुओदिन्म पर यदि चाले हो जाते हैं , तो उन्हें अल्सर कहते हैं | अल्सर, चालों के आकर से भी बड़े होते हैं एवं गहरे भी ज्यादा होते हैं | नासूर की तरह यदि अल्सर आमस्य में हों तो...

Read More »

केवल हल्दी से ही कितने तरह के घरेलु उपचार किये जा सकते है

त्वचा और हल्दी    हल्दी त्वचा के लिए श्रेष्ठ मानी जाती है | त्वचा की कुछ समस्याओं के लिए इसका विभिन्न रूपों में उपयोग किया जाता है | फ़ोड़े-फुंसियां:- ये आमतौर पर खून की खराबी से उत्पन्न होती है | एक पाँव ताज़ी हल्दी, दो लीटर पानी में उबाल कर ठंडा कर लें | भोजन के आधा घंटा बाद इसका सेवन करें | यह खून साफ करेगा तथा भविष्य में...

Read More »

जानिए किस तरह आदत आपके लिए लाभदायक है और नुकसानदायक

आदत बुरी बला  निंदा का परिणाम है अनुताप | अकृत के प्रति दुष्कृत के प्रति जब अनुताप पैदा होता है तो मूर्च्छा का चक्र टूटता है | कोई भी आदमी गलत काम मूर्च्छा के कारण करता है | जैसे ही मूढ़ता टूटती है सही आचरण और सही व्यवहार होने लग जाता है | जैसे ही मूढ़ता टूटती है, सही आचरण और सही व्यहार होने लग जाता है | मोह और...

Read More »

पोषण में विटामिन को कैसे संतुलित लिया जाये आईये जाने

पोषण में विटामिन आज अगर विटामिन की खूबियों पर विश्वास करने वाले वैज्ञानिकों व लोग दुनिया में है तो इससे ज्यादा लोगों का विचार यह है कि अतिरिक्त मात्र में विटामिनों के सेवेन से कोई फायदा नहीं होता | कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि गर्भवस्था और बचपन को छोडकर हमें अपने पुरे जीवनकाल में जितनी मात्र में विटामिनों की आव्श्यकता होती है, सभी हमे अपने दैनिक आहार से कितने...

Read More »

अच्छे स्वस्थ्य को बनाये रखने के लिए कुछ जरूर बाते जिनका जानना आपके लिए जरूरी है।

अच्छे स्वास्थ्य के लिए शरीर का सोधन या दोषों को बाहर निकालने के प्रक्रिया पंचकर्म है, जिसमे शरीर के बाह्य तथा आंतरिक विकारों को निकालने के लिए सरल उपाय होते है जिससे शरीर सुध हो जाता है | इससे पुनः रोगोत्पत्ति की संभावना नही होती | जिस प्रकार मैला वस्त्र ठीक प्रकार धोने से स्वच्छ एवम् उज्ज्वल हो जाता है, उसी प्रकार पंचकर्म से मानसिक वृद्धि होत्री है | आयुर्वेद...

Read More »

विकासशील समाज और स्वास्थ्य को स्वस्थ रखना सबसे महत्व पूर्ण है।

विकासशील समाज और स्वास्थ्य तंदरुस्त चुस्त व फुर्तीला रहने के लिए नियमित व्यायामशाला में जाकर पसीना बहाना जरूरी नही है | जरूरी सिर्फ इतना है कि इतना श्रम शरीर से किया जाए कि पूरा शरीर हरकत में आ जाए | पाचन शक्ति बढ़ जाए ओर अतरिक्त कैलोरी जमा न हो जाए | नवीनतम चिक्त्सिव अध्ययन ने तो यह साबित क्र दिया है की हल्की सि शारीरिक क्रिया भी कोलस्ट्रोल उच्च...

Read More »

Simple Herbal treatment of arthritis, Herbal Tips

गठिया के सरल उपचार जिस तन लगे वह मन जागे | दुसरो को क्या पता | गठिया रोग की पीड़ा बड़ी कस्टदायक होती है | इस रोग को ठीक करने के लिए बहुत से घरेलू उपचार उपलब्ध है | जानिए इन्हें :- कचचे करेले का रस निकालें | इसे गर्म कर मालिश करे | नाग केसर के बीजों का तेल लें | इसकी मालिश करें | पीलू के पत्ते लें...

Read More »

Some measures of Heart disease control by Herbal tips

कुछ उपाय : हृदय रोग पर नियंत्रण के  हार्ट ट्रबल, हृदय रोग, इसकी सम्भावना से भी बचना चाहिए | हाँ, थोडा प्रयत्न तो करना ही चाहिए | यदि कोई कहे कि हार्ट अटैक जानलेवा रोग है, किन्तु उसे यह भी मानना होगा कि इस पर नियंत्रण करना असंभव नही है | भोजन का सही चुनाव करके, रहन सहन में बदलाव करके, इस रोग से बचाया जा सकता है | जिस व्यक्ति...

Read More »