Home » Posts tagged "Bile Diseases"

Herbal Home remedies for Bile Diseases”,”Pitt ka Rog”,”Vulval pain”,“Pitt Rog ka Gharelu Ilaj”, Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

पित्त का रोग (Bile disorder) Vulval pain-Symptoms, Reasons, Causes   परिचय:- पित्त के कारण होने वाले रोग को जानने से पहले हमें यह जानने की आवश्यकता है कि पित्त का शरीर में काम क्या है ? शरीर का स्वास्थ्य ठीक प्रकार से बना रहे इसके लिए जिगर का शरीर में कम से कम आधा किलो से लेकर 1 किलो तक की मात्रा में पित्त का निर्माण करना आवश्यक होता है।...

Read More »

Medicinal use of Juhi plant in Bile Diseases and Heat Stroke

जूही संस्कृत नाम – थूकि जूही एक प्रसिद्ध जड़ी है । बहुत कम लोग इस बात को जानते हैं कि जूही का कोई पौधा नहीं होता बल्कि यह एक लता होती है जो बड़े पौधों पर चढ़ कर पलती है । प्रकृति का यह खेल भी कितना विचित्र लगता है कि बिना जड़ के हरे पौधे पल रहे हैं । जूही को इन चार जातियों में बांटा गया है 1....

Read More »

Multiple uses of “Azadirachta Indica Tinospora नीम गिलोय (गुर्च) ” in Ayurveda

नीम गिलोय (गुर्च) पाठक जन इस विचित्र नाम को सुनकर चौंक उठे होने कि नीम और गिलोय एकसाथ दो नाम इकट्ठे ही कैसे जुड़ गए? वास्तव में यह नाम दो नामों के जुड़ने से ही बनता है | इसका कारण है कि नीम अपने आप में एक बहुत बड़ा वृक्ष है | गिलोय उस पर चढ़ी हुई बेल होती है जो इस वृक्ष के सहारे पलती है | गिलोय को...

Read More »

“Milk Bush (सातला)” uses and advantages in Ayurveda

सातला सातला कोई वृक्ष नहीं बल्कि एक बेल होती है जिसके पत्ते खैर के पत्तों की भांति होते हैं, जिन पर पीले रंग के फुल खिलते हैं । इनसे ही एक  पतला तथा चपटा फल लगता है । उस फल के अंदर काले रंग के बीज निकलते हैं ।  गुण तथा लाभ यह सातला पकने पर जता सख्त हो जाता है । सातला पेट के रोगियों के लिए बहुत अच्छा...

Read More »