Medicinal uses of herbal plant “Ativisha” in Ayurveda

अतिविषा यह चिरआयु वाला पौधा होता है | इसकी लंबाई करीब 30 से.मी. लेकर 100 से. मी. तक होती है | इस पर नीले रंग के फुल आते हैं | इस पर पांचधारी वाला काला फल लगता है जिसके अंदर 20 से 25 तक बीज होते हैं | यह पौधा हिमालय पहाड़ की 2100 से.मी. से लेकर 3800 से.मी. तक की ऊंचाई पर पाया जाता है, जिसे आप जुलाई, अगस्त,...

Read More »

Medicinal uses of herbal plant “Ashoka” in Ayurveda

अशोक  संस्कृत नाम – हेमपुष्प, ताम्र, पल्लव अशोक के वृक्ष, मध्य एवं पूर्वी हिमालय, बंगाल तथा दक्षिण भारत में आशिक पाए जाते हैं | प्राकृतिक रूप से पैदा होने वाला अशोक वाटिकाओं में, जंगलों में दिखाई देगा | इसका वृक्ष बिलकुल सीता खड़ा होता है | पतली टहनियों पर लंबे-लंबे हरे पते मन को भाते हैं, जो बहुत कोमल होते हैं | इन पर फल और फूल वसंत ऋतू में...

Read More »

Medicinal uses of “Gulab Flower (Rose)” in Ayurveda

गुलाब संस्कृत नाम – तरुणी, श्यमत्री, दुब्जक   गुलाब का पौधा भी छोटा ही होता है | फूलों का राजा कहा जाने वाला गुलाब का फुल सबके ही मन को भाता है | इसकी गंध मन को प्रसन्न कर देती है, दिमाग को ताजा बनाकर उसकी थकान दूर कर देती है |   गुलाब के फूलों से बनने वाली गुलकंद को रात को सोते समय, 250 ग्राम दूध के साथ...

Read More »

Medicinal uses of “Mongra” or “Radish” plant in Ayurveda

मोंगरा संस्कृत नाम – वार्थिक, मल्लिका  मोंगरे का पौधा छोटे कद का होता है | इस पर लंबे-लंबे हरे रंग के फल लगते हैं | जिन्हें मुंगरे की फलियां भी बोला जाता है | उनकी सब्जी बनाकर लोग खाते हैं | फोड़े-फुंसियों तथा चर्म रोगों के लिए  मोंगरे के पतों को पीसकर उनकी लुगदी तैयार कर लें | उस लुगदी को देसी घी में छोंककर गर्म करके फोड़े-फुंसियों तथा चर्म...

Read More »

Medicinal uses of “Sevanti herbal plant” in Ayurveda

सेवती संस्कृत नाम – तरुगी, शत्रपत्री कुब्ज        हिंदी – सदागुलाब, सेवती, गुलोचगुणता सेवती की वृक्ष छोटे कद का तथा सुंदर होता है |  इसके फल अथवा फुल को सूंघने से मस्तिष्क को पूर्ण शांति मिलती है | हृदय की जलन को दूर करने के लिए भी इसका सेवन अधिक अच्छा माना गया है; शरीर और माथे की गर्मी दूर करने के लिए  सेवती के फल    ...

Read More »

Medicinal benefits of “Amla” in Ayurveda

आमला : अमली, आमल्की जैसे इसके अनेक नाम हैं | लाभ  आमले का वृक्ष काफी बड़ा होता है | देखें नीचे आमले के वृक्ष के चित्र को | गुणकारी आमला कच्चा भी खाया जाता है | इसका मुरब्बा तथा अचार दोनों ही स्वाद के रूप में खाए जाते हैं | आमले की तासीर ठंडी होती है | मुरब्बा खाने से दिल के रोगों को आराम मिलता है तथा बुद्धि तीव्र...

Read More »

Medicinal uses of “Baheda” in Ayurveda

इसके अनेक नाम हैं जैसे विभीतक, कर्षफल | ये सबके सब संस्कृत नाम हैं | इसका वृक्ष बहुत बड़ा होता है | इसका फल बहुत छोटा होता है,  इसकी तासीर ठंडी होती है | अधिक मात्र में सेवन करने से गर्म फल का रूप धारण करता है | सर्दी, जुकाम, खांसी, बुखार के रोगों में इसका सेवन लाभदायक है | जैसे कि पाठकों को पहले भी बता चूका हूं कि...

Read More »

Medicinal uses of “Haritaki (Harad) in Ayurveda

हरड़ को अनेक नामों से पुकारा जाता है, कियोंकि हर रोग को दूर कर देती है इसलिए इसे हरीतकी भी कहते हैं | अनेक गुणों पर इस पौधे की एक नजर देखें | इस का कद मध्यम आकार का होता है गुणों से भरपूर यह प्राकृतिक रूप से जन्म लेता है | इसकी कोई फसल नहीं होती अपने-आप ही पैदा होकर खूब फलता-फूलता है | यह अधिकार हिमालय पर्वत पर...

Read More »