“Luffa Echinata (देवदाली)” medicinal uses in Ayurveda

देवदाली (ववर बेल) यह एक बेल के आकार में बड़े-बड़े वृक्षों पर चढ़ी नजर आती है । किसान लोग इससे खेत की बाढ़ का काम भी लेते हैं । गुण तथा लाभ इसके फल पर छोटे-छोटे कांटे होते हैं । इसका फल छोटी तोरी की भांति होता है । इसके प्रयोग से खांसी, श्वास, अर्श, क्षय, कामला, बुखार जैसे अनेक रोगी ठीक हो जाते हैं । Luffa Echinata It is...

Read More »

“Cuckoo (Aparajita)” white Cuckoo and Blue Cuckoo advantages and properties in Ayurveda

कोयल यह जड़ी खुले मैदानों और जंगलों में पाई जाती है । इसके पत्ते छोटे गुलाब की भांति होते हैं । इस पर फल के रूप में लंबी फलियां लगती हैं । लाभ तथा गुण कोयल दो प्रकार की होती है – 1. सफेद कोयल 2. नीली कोयल इन दोनों के गुण करीब-करीब तो मिलते हैं परंतु फिर भी उपयोग में अंतर उसी प्रकार से आता है, जैसे काला जीरा...

Read More »

“Indian beech (करंज)” beneficial in Digestive diseases, Worm disease, Cough

करंज करंज के पेड़ बहुत बड़े होते हैं, जो घने जंगल में मिलती हैं । फुल हलके आसमानी रंग के, फल भी उसी रंग में नजर आते हैं । यह प्रकृतिक रूप से पैदा होने वाला वृक्ष है । गुण तथा लाभ पेट रोगों के लिए लाभदायक, नेत्र रोगों को दूर करने वाला, स्वाद में कड़वा, अर्श, प्रमेह, प्लीहा अदि रोगों को दूर करता है । खांसी व् कृमि रोगों...

Read More »

Medicinal uses of “Bamboo (बांस)” in Ayurveda

बांस बांस के बारे में यह तो प्रसिद्ध ही है कि बांस की आग पल भर में ही पुरे जंगल में फैल जाती है । बांस के पौधे लंबे कद के उंचे और लात की भांति तने खड़े रहते हैं । भारत में लट्ठ बाजी का अपना ही एक स्थान है और यह लट्ठ हमें बांस द्वारा ही प्राप्त होते हैं । इसी बांस से वंशलोचन निकलता है । कभी-कभार...

Read More »

“Ash Gourds (पेठा)” medicinal uses in Ayurveda

पेठा पेठा का पाक उपदंश (गर्मी) और रसकपूर से देह फूट वह को शांत करता है । पेठे का पाक बनाने से निभित्त उसको उबालकर ठीक कतरा करें । शक्कर की चाशनी बनाएं, उसमें सालम, इलायची, बंशलोचन, गोखरू, विदारीकन्द-द्किख्नी अनुमान से डालकर खाएं तो गर्मी रोग जाए, तथा जंगली बकरी का दूध, पेठा का पानी एक छटांक मिलाकर दो सप्ताह पीवें तो गर्मी रोग जाए, परंतु परहेज करें । गुण...

Read More »

“Bassia Latifolia (महुआ)” beneficial in snake bite, Arthritis or diseases

महुआ महुआ का वृक्ष काफी बड़ा और घना होता है, इस के पत्ते पीपल के पत्तों की भांति बड़े परंतु लंबाई में होते हैं । महुआ के फुल सफेद तथा फल हरा होता है | यह प्रकृति पौधा है | इसकी फसल बोई नहीं जाती | यह जंगलों में ही आम पाया जाता है | इसके फल, फुल, पत्ते, छाल सब के सब काम आते हैं । गुण तथा लाभ...

Read More »

Natural benefits of “Pineapple (अनन्नास)” in Ayurveda

अनन्नास अनन्नास का फल पहले भारत में नहीं होता था । विदेशी शासकों के आने के साथ-साथ यह फल भी अब भारत में खूब होने लगा है । इसका जन्म पश्चिम देशों में हुआ जो भारत में आकर खूब लोकप्रिय हुआ । गुण तथा लाभ इस फल का छिलका बहुत ही सख्त होता है । दिल रोगियों के लिए वरदान अनन्नास दिल के रोगियों के लिए बहुत लाभकारी है ।...

Read More »

“Mulberry शहतूत (देसी)” good to use for Liver malfunction, Heat Stroke

शहतूत (देसी) शहतूत का वृक्ष बहुत बड़ा होता है । इसमें दो प्रकार के फल लगते हैं । सफेद और काले । इनके आकार भी दो प्रकार के होते हैं लंबे तथा छोटे । परंतु इन दोनों की तासीर ठंडी होती है । इसके फलों का शर्बत भी निकाल कर पिया जाए तो शरीर की सारी गर्मी को दूर करता है । गुण तथा लाभ भूख न लगने पर शहतूत...

Read More »

“Peelu (पीलू)” beneficial for Hemorrhoids, fever, Urine disease

पीलू पीलू के वृक्ष बहुत टेढ़े-मेढ़े होते हैं । उन पर पीलुओं के बड़े-बड़े गुच्छे फलों के रूप में लगते हैं । इन वृक्ष पर दिसम्बर मास में फुल आते हैं और मार्च मास में फल पक जाते हैं । लाभ तथा गुण बवासीर बवासीर रोगियों के लिए पीलू का रस बहुत ही गुणकारी माना गया है क्योंकि यह रस मीठा होता है । लोग इसे बहुत खुश होकर पीते...

Read More »

“Watermelon (तरबूज)” beneficial in Constipation Disease, joint pain

तरबूज फलों मेंसब से बड़ा फल जो किसी वृक्ष के साथ नहीं लुटका रहता बल्कि एक बेल के साथ लगाकर धरती पर पड़ा रहता है, जो बाहर से हरा और अंदर से लाल होता है । देखने में तरबूज कोई साधारण फल नहीं लगता ठीक ऐसे ही यह तरबूज गुणों में असाधारण है । एक तरबूज अनेक बीमीरियों को जड़ से उखाड़कर फेंक देता है । गुण तथा प्रयोग सिरदर्द...

Read More »

Multiple uses of “Mango (आम)” for Kidney, Brain, Diabetes in Ayurveda

आम भारतवर्ष में आम को फलों का राजा कहते हैं । खाने में सब फलों से स्वादिष्ट, गुणों में प्रथम श्रेणी में आने वाला आम पत्तों से लेकर फल तथा बीजों तक काम आने वाला है । यह फल सच के मन को भाता है । बवासीर तथा पेचिश मीठे आम, एक बड़ा चम्मच रस, दही आधा चम्मच, अदरक का रस आधा चम्मच-इन सब को मिला रोगी को सुबह-शाम दें...

Read More »

Benefits and Usage “Betel (पान)” in Ayurveda

पान संस्कृत नाम – तांबुल यह एक आरे लता है जो देखने में अति सुंदर एवं कोमल लगती है | इसके पत्ते पीपल अथवा गिलोय के पत्ते जैसे होते हैं । फुल समूहों में लगते है । लाभ तथा प्रयोग पान का प्रयोग भारत में अधिकतर लोग मुंह के स्वाद तथा आम भाईचारे, मित्रता तथा सगे-संबधियों के सेवा के लिए करते हैं । पान के पत्ते में सुपारी, इलायची, सौंफ,...

Read More »