Home » Herbal Treatment And Health » हाई ब्लडप्रेशर और सुगर से आँखों की कैसे की जाए सुरक्षा

आँखों को चाहिए सुरक्षा

आँखें प्रकृति द्वारा मनुष्य को दिया गया एक ऐसा उपहार है जिनके बिना सारी दुनिया अँधेरी हो जाती है | आँखें मनुष्य के शरीर का सबसे सवेंदनशील हिस्सा है | आँखों की हिकाजत कितनी जरूरी है, इसका अंदाजा आप आँख बंद करके लगा सकते हैं |

redeyesउम्र से पहले आँखों के कमजोर हो जाने के कई कारन होते हैं | आज की नई पीढ़ी को तो इतने मानसिक तनाव से गुजरना पड़ता है जिसमें आँखों की रौशनी का प्रभावित हो जाना स्वाभाविक बात है | मिलावटी खाद् पदार्थों और दूषित जल के सेवन से आँखों की कई ऐसी बीमारियाँ पैदा हो जाती हैं जिनका यदि समय रहते उपचार न किया जाये तो आदमी अपनी आखों की रौशनी तक खो सकता है |

कंप्यूटर पद्धति ने नेत्रों की जाँच के कार्य को काफी आसान कर दिया है | इससे कुछ ही मिनटों में आखों के बारे में पूर्ण जानकारी मिल जाती है | कंप्यूटर द्वारा चैकअप करवाने के बाद आमतौर पर एक्यूरेट नंबर मिलता है जिससे चश्मा सही बन जाता है |

आँखों की पूर्ण जांच के लिए अब अत्याधुनिक मशीनें आ गई हैं, जिनकी विभिन्न यूनिटें जैसे सिल्ट लप्स, करैटोमीटर ट्रेल सेट फोरसी मीटर आदि आँखों के चेकअप के साथ-साथ कांटेक्ट लैंस को भी चैक कर देती है | आँखों की सुरक्षा के लिए निम्नलिखित सावधानियां बरतनी जरूरी हैं :

  1. तेज रोशनियाँ आँखों को नुकसान पहुँचा सकती हैं, इसलिए पढाई-लिखाई का काम बहुत तेज रौशनी में नहीं करना चाहिए |
  2. बहुत माध्यम रौशनी से भी स्नायु पर जोर पड़ता है, अत: साधारण रौशनी में ही पढ़ना-लिखना चाहिए |
  3. वाहनों के धुंएँ और धुल आदि से बचाव के लिए धुप के चश्में का प्रयोग किया जाना चाहिए |
  4. हाई ब्लडप्रेशर और सुगर के मरीजों को समय-समय पर आँखों का उपचार कृते रहना चाहिए |
  5. टेलीवीजन को उचित दुरी पर हलकी रौशनी में देखना चाहिए | अँधेरे में टी.वी. देखना हानिकारक साबित हो सकता है |
  6. आँखों को अगर त्रिफला जल से धोया जाये तो आँखों की रौशनी बढ़ती है |
  7. आँखों की रोशनी विटामिन ‘ए’ से बढती है जो दूध, पपीता, हरी सब्जी आदि से प्राप्त हो सकता है |
  8. लेट कर पढ़ना आँखों के लिए हानिकारक हो सकता है |
  9. कम्पुटर पर काम करने वालों के लिए एंटी ग्लेयर ग्लासिस का उपयोग करना चाहिए |
  10. आँखों की देखभाल के साथ-साथ चश्में की सुरक्षा की सफाई भी बहुत जरूरी है | चश्में को धो कर सूती कपडे से पोंछ कर लगाना चाहिए | चश्में के शीशे अच्छी क्वालिटी के लगवाएं अन्यथा आँखों को नुकसान पहुँच सकता है | चश्में को दोनों हाथों से पकड कर आँखों पर लगाएँ, इससे चश्में का संतुलन सही रहता है |
  11. जब चश्में का उपयोग न करना हो तो उसे केस में रखें, इससे लैंस पर स्क्रैच नहीं पड़ते |
  12. कमजोर आँखों के लिए खासतौर पर चश्मा लगाना जरूरी होता है | यदि डाक्टर राय दें तो चश्मा हर समय लगाना चाहिए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name
Email
Website