Ayurvedic Help

How to make effective Nervous system, heart, and brain function by Home Remedies.

नाड़ी तन्त्र, मन तथा मस्तिष्क द्वारा कार्य 

हमारे शरीर में नादियों का एक बड़ा जाल है | बहुत तो सीधे मस्तिष्क से संबंधित है जबकि कुछ मेरुदंड से भी किंतु प्रत्यक्ष या परोक्ष में इनका संबंध मस्तिष्क से बना रहता है | यदि हमारा नाड़ी तन्त्र स्वस्थ है तो मस्तिष्क भी ठीक प्रकार से कार्य करता है |

nervous system

  • हमारा मस्तिष्क पुरे शरीर से काम लेता है | हर अंग की कार्य प्रणाली इन आदेशो का पालन करता है |
  • मस्तिष्क ही शरीर की विभिन्न प्रतिकिर्याओं और कार्य प्रणाली का जिम्मेदार है | उसी का आदेश पूरा शरीर हर अंग मानता है |
  • यदि नाड़ी तन्त्र अस्वस्थ होगा तरो मन का संदेश भी ठीक से मस्तिष्क तक नहीं पहुंचता | यदि मस्तिष्क पूर्ण स्वस्थ नही होगा तो वह अपनी आज्ञा नही दे पाएगा | वह शरीर के विभिन्न अंगों को सुचारू नहीं कर सकेगा | अतः पुरे सुरीर की व्यवस्था ठप्प पड़ जाएगी | यह बुरी बात होगी |
  • मनुष्य में अच्छा और बुरा सिचने की क्षमता है | मनुष्य विवेकशील है | पशु विवेक रहित | यही अंतर है मनुष्य तथा पशु में | यही गुण मनुष्य को सबसे ऊपर रखता है |
  • ऐसे व्यक्ति जिनका दिल हो, नाड़ी तन्त्र कमजोर हो, रात को 5 गिरी बादाम , ११ किशमिश के दाने भिगोकर प्रातः चबा चबा कर खाएँ तो उसका मन, मस्तिष्क, ह्रदय तथा नदी तन्त्र सभी सशक्त हो जाएँगे | शरीर ठेक चलेगा |
  • यदि नींद कम आती है और मस्तिष्क थका रहता हो तो यह बादाम और किशमिश वाला घरेलू उपचार काम आएगा |
  • यदि स्मरणशक्ति कम हो रही है और चेतना में भी कभी आने लगे तो शरीर में आई लोहत्तव की कमी पूरी करें |
  • नाड़ी तन्त्र को पूर्ण स्वस्थ रखने के लिए दूध के बने पदार्थ, सोयाबीन , फल, सब्जियां,मुली,मुली के पत्ते, मोसमी, अंगूर तथा तजा प्याज खाना हिलकर रहता है |
  • इन सभी बातों को धन में रख, लाभ उठाना चाहिए |

५५, पानी की कमी न होने पाए :-

ठोस पदार्थो के बिना हम अपना शरीर चला सकते है | मगर जल के बिना नही |

हमारे शरीर में ७०% पानी है | शेष 30% ठोस | रक्त में तो 90% पानी है | शेष ठोस, बिना पानी शायद ही कोई व्यक्ति जीवित रह पाए | सावधान!

  • हमारे शास्त्रों में पानी को अमृत मन गया है | जल ही जीवन है | जल ही जीवन की सांसे |
  • पानी हमारे शरीर के स्वास्थ्य व् शक्ति की रक्षा करता है |
  • पानी अंदर ही अंदर अनेक रोगों को उपचार कर देते है|
  • पानी से हम नहाकर, हाथ मुँह धोकर, बाहरी स्वच्छता करते है, जबकि पानी ही अंडर के शरीर को स्वच्छ करता है |
  • पेसाब और पसीना अदि द्वारा भीतरी दूषित तथा विजातीय तत्व बाहर आ जाते है |
  • पानी अपने आप में एक औषधि है | यह शरीर को रोगमुक्त करने में लगा रहता है, पानी चिकित्सा द्वारा भी तो हम रोगों से छुटकारा पा लेते है |
  • प्यास लगने पर जो पानी हम पीते है, इसके अतिरिक्त भी हमारे शरीर में खूब पानी विद्यमान रहता है |
  • दस्त, उल्टियाँ पेचीस कुछ भी लग जाएँ तो इनसे शरीर में पानी की कमी हो जाना आम बात है | हाईड्रेसन न हो, इसके लिए चेत रहने की आवश्यकता है |
  • हमारे खाद्य पदार्थो में भी पानी विद्यमान रहता है | जिन्हें खाने से शरीर में पानी की कुछ आपूर्ति हो जाती है |
  • पानी हमारे लिए पाचक भी है | इसका शरीर में विद्यमान होना भोजन को एचने में मदद करता है |
  • रक्त में उचित मात्र में मिलाकर पानी इसे पतला बनता है | तभी तो रक्त संचार ठीक होने लगता है | खून जमता नहीं | यदि पानी की कमी होगी तो खून गाढ़ा हो जमने लगेगा | रक्त संचार नहीं होने पाएगा | तब अंगों का पोसण नही होगा |
  • व्यक्ति के जिगर, गुर्दा अपने कार्य पानी की सहायता से ही पुरे कर पते है |
  • हमारे शरीर का तापमान बढ़ कर असमान्य न होने पे, पानी यह काम भी देखता है | जो कोई इस और से लापरवाह होकर, शरीर से पानी में कमी होने देता है वह रोग का शिकार हो जाता है | अर्थात अस्वस्थ रहता है | अतः शरीर को उपयुक्त मात्र में पानी मिलता रहे |
Thank for sharing!

About The Author


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *