Home » Cause and Prevention » The Basis Of Good Health: Optimistic Views

अच्छे स्वास्थ्य का आधार : आशावादी विचार

जैसा हम सोचते हैं, वैसे पाते हैं | वैसा ही स्वास्थ्य भी होने लगता है | ताकि जैस भावना, फल भी वैसा ही |

आज यह प्रमाणित हो चूका है कि जैसा मन होगा, वैसा ही तन होगा | मनोबल बना रहेगा तो स्वस्थ तन पा लेंगे | जिसका मनोबल टुटा, स्वास्थ्य भी बिगड़ा | सोचें तो स्वस्थ्य बने रहने की | रोगी बनकर जीने की कमी नहीं | 

इसमें संदेह नहीं कि मन का सीधा संबंद हमारे शरीर व स्वास्थ्य के साथ है | जो रोगी आशावान होगा, वह अपने उपचार से शीघ्र ठीक हो सकेगा | जो निराशावन होगा, उस पर दवाओं का, सेवा का, सुश्रूषा का भी प्रभाव नहीं |

किसी हॉस्पिटल का किस्सा है कि निराशावादी, निरुत्साही लोगों को अंगीकार कर लेने वाले बच्चे अधिक समय तक बिस्तर पर पड़े रहे, किंतु उसी स्तर की बीमारी वाले आशावान उत्साही रोगी, रोगों को झटक देने वाले, उसी दवा तहत आहार से अतिशीघ्र ठीक हो गए | ऐसा अकसर होता रहा है |

पूर्ण स्वस्थ रहने के लिए मन में आशा, प्रेम उत्साह, श्रद्धा तथा विश्वास को जगाएँ | अपने मन में अच्छे विचार रखें | सुभ-सुभ सोचें | शुभ करें | स्वास्थ्य तो उत्तम होगा ही, जीने में भी रस आने लगेगा | आनंदित हो उठेंगे |

अपने कार्यों तथा शरीर के साथ कभी लापरवाही न करें | जो मन में आए वही करें, जो ठीक लगे | जो इच्छा हो वही खाएँ | जैसा चाहा, वैसा विश्वास भी बनाएँ, किंतु हम इसे नकारते हैं | यह श्रद्धा व् उत्साह नहीं | लापरवाही है | मनमर्जी हैं गलत सोच है | प्रकृति को माने और इसी के अनुसार सोचें तथा करें | मर्जी मत करें |

जब भी आप कुछ खाने-पीने लगें, पहले तो यह देख लें कि आपको इसकी आवश्यकता है नहीं | क्या यह आपके शरीर के लिए उपयोगी है या नहीं | गलत कभी न खाएँ |

आप जब भोजन करने बैठे, अच्छे मन से, शांत मन से खाएँ | अवसाद में नहीं |ईर्ष्या को मन में घर कर नहीं | भोजन बनाने वाले या किसी भी व्यक्ति के बारे में दुर्भावना रख कर कुछ खाएँगे तो यह भी विष बनकर नुकसान करेगा आपका |

और अंत में, सदा उत्साही, आशावादी, आनंदित बनकर, अपने हितों के साथ दूसरों के हितों की भी सोचें | आपके विचार आशावादी होंगे | मन में ख़ुशी की लहर होगी | जीने का सच्चा आनंद आने लगेगा |

The Basis Of Good Health: Optimistic Views

As we think, so get. Health seems to be the same. Such as the spirit, the same fruit.

Today it has proved to be the heart, the same will be tan. Morale will remain healthy tan can manage it. Broken whose morale, impaired health. Think you remain healthy. Be patient, not a lack of living.

There is no doubt that the mind is a direct Snband with our bodies and health. Patients who will be hopeful he will recover quickly from their treatment. Which will Nirashavn, the drugs, the service, also attended effect.

The case of a hospital that pessimistic, uninspired people who have adopted children are lying in bed for a long time, but the same level of disease optimistic, enthusiastic patient, diseases that hunting, under the drug recovered from the diet immediately. It has been often.

Full hope to stay healthy in mind, love the enthusiasm, faith and confidence Jagaaa. Keep good thoughts in your mind. Sub-Sub Think | Do good. So it is better health, even to live juice will come. Shall be merry.

Do not ever neglect your actions and body. Come to mind those who are fine. Eat the same desire. As desired, so a belief, but we reject it. The trust business is not encouraging. Negligence. Discretion is wrong thinking. And to consider the nature and accordingly treated. Do not consent.

Whenever you start to eat something, so make sure that you need it, not before. Whether or not it is useful to your body. Never eat wrong.

When you sat down to eat, with a good heart, calm mind eat. Depression not | be home in mind not to envy. Or any person who has food put on some ill eat as it will damage your poison.

And finally, always enthusiastic, optimistic, happy as, with his interests also consider the interests of others. Your ideas will be optimistic. In mind will gladly wave. Will come true joy of living.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name
Email
Website