Herbal Medicine Plants

“Maidenhair Fern (हंसराज)” multiple uses in Ayurveda

Category: Herbal Medicine Plants Written by Jaswinder Singh / December 22, 2016

हंसराज

hansrajयह भी प्राकृतिक रूप से पैदा होने वाली बूटी है । इसे जंगलों और मैदानी क्षेत्रों में बराबर पाया जाता है ।

जैसे आप चित्र में देख रहे हैं । इसकी पत्तियां हंस के पांव जैसी लग रही है । इसलिए इसे हंसराज के नाम से पुकारा जाता है । हंस ही इसकी पहचान बन गया है ।

नकसीर तथा अन्य नाक रोग

हंसराज 10 ग्राम गुर्च का सत 1 ग्राम इलाचयी 1 ग्राम

इन सबको मिलाकर दस दिन तक खाते रहने से अनक की गंदगी तथा नकसीर रोग ठीक हो जाते हैं ।

अंडकोषों की सुजन

हंसराज के पत्ते, कत्था, शीतलचीनी, छोटी इलायची का चूर्ण – इन सबको
मिलाकर अंडकोषों पर बांध दें, यह घ्यान रहे कि इसे कस कर न बांधे अंडकोषों को अधिक दबाने से आदमी की मृत्यु भी हो जाती है । लंगोट में रखकर उसे दस दिन तक बांधते रहने से अंडकोषों की सुजन दूर हो जाएगी ।

गंजेपन का उपचार

हंसराज के पत्ते को कूटकर उनका लेप तैयार करके गंजे स्थान पर लगाते रहने से कुछ दिनों के पश्चात् ही बाल उगने शुरू हो जाते हैं ।

Maidenhair Fern

hansraj1It is also naturally produced by plants. It is found equally in the forests and plains.

As you can see in the picture. The leaves look like goose foot. Therefore it is called Maidenhair Fern. Hans has as its hallmark.

Nose bleeding and other diseases

10 gram Maidenhair Fern           1 gram      Guduchi extract

1 gram Cardemom

Taken together, the ten days of Ank Eating dirt and hemorrhage diseases are cured.

Inflammation of the testicles

Maidenhair fern leaves, catechu, Shitlchini, cardamom powder – these all tie together the testicles, the testicles Gyan that it binds tightly not mean the death of the man is more pressing. With ten days to pack diapers will remove swelling of the testicles.

Baldness Treatment

Maidenhair Fern bald spot leaves prepared and continue to beat the coating only after a few days begin to grow hair.

Thank for sharing!

About The Author


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *