Home » Herbal Medicine Plants » “Betal (सुपारी)” is beneficial for throat cough in Ayurveda

सुपारी

betelसुपारी का वृक्ष बहुत लंबा होता है, इसका आकार नारियल के वृक्ष जैसा होता है, यह अधिकतर सागर तट पर पैदा होते हैं। सुपारी के बड़े-बड़े बाग झुंडों के रूप में नजर आते हैं। यह प्राकृतिक रूप से जनम लेने वाला वृक्ष है ।

जैसा आप वृक्ष के साथ लटक रहे बड़े-बड़े गुच्छों को देख रहे हैं, इन गुच्छों को यदि फोड़ा जाए तो इनके अंदर से सुपारी निकलती है। सुपारी का आकार अखरोट के जैसा होता है | इसके अंदर बीज नहीं होते बल्कि बहुत सख्त होते हैं, पत्थर की भांति सखत सुपारी को दांतों से चबाना सरल नहीं होता। यह सुपारी बारीक काटकर पान चबाने वालों के काम आती है ।

कच्ची सुपारी का स्वाद कसैला होता है, वह गले को साफ करती है, मुंह की गंद को दूर कर खांसी से भी आराम दिलाती है ।
पक्की हुई सुखी सुपारी पाचन शक्ति को बढ़ाए, गले के रोगों को ठीक करे। खुजली तथा फोड़े-फुंसियों के लिए सुपारी को जलाकर उसकी राख तिल के तेल में मिलाकर लगाने से आराम आता है।

Betel

betel1Betel nut tree is too long, the size of the coconut tree is similar, with most are born on the beach. Large herds of nut orchards are seen as. This tree is about to be born naturally.

As with the tree you are looking at large bunches hanging, then boil them in bunches if the contract originates from. The size is similar to the betel nut. The seeds inside are not very strict, but are hard like stone teeth chew betel nut is not easy. The finely cut betel nut chewing is used ones.

Raw nut taste is astringent, it cleans the throat, cough away from dirty mouth gives ease.
Happy fallen betel nut digestive power increase, diseases of the throat to heal. Eruptions, itching and burning nut for putting his ashes mixed with sesame oil provides relief.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name
Email
Website