Home » Ayurveda » Medicinal uses of “Mongra” or “Radish” plant in Ayurveda

मोंगरा

संस्कृत नाम – वार्थिक, मल्लिका 

मोंगरे का पौधा छोटे कद का होता है | इस पर लंबे-लंबे हरे रंग के फल लगते हैं | जिन्हें मुंगरे की फलियां भी बोला जाता है | उनकी सब्जी बनाकर लोग खाते हैं |

mungra

फोड़े-फुंसियों तथा चर्म रोगों के लिए 

मोंगरे के पतों को पीसकर उनकी लुगदी तैयार कर लें | उस लुगदी को देसी घी में छोंककर गर्म करके फोड़े-फुंसियों तथा चर्म रोग वाले भाग पर लगाएं | दिन में दो बार लगाना चाहिए | दो-तीन दिन में फोड़े फुट जाएगे | फुंसियां भी साफ होकर अन्य चर्म रोग ठीक हो जाएंगे |

मोंगरे के पते       10 ग्राम 

गागल                 2

इन दोनों को मिलाकर टिकिया बना 10 ग्राम देसी घी में भुन कर उसमें थोड़ा-सा-मोम मिलाकर मल्हम बना लें | इस मल्हम को फोड़ों-फुंसियों पर लगाने से सब प्रकार के चर्म रोग ठीक हो जाते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name
Email
Website