Home » Archive by category "Indian Herbs"

Herbal Home remedies for General Diseases”,”Smanya Rog”,”Whitlow”,“Angulhada ka Gharelu Ilaj”, Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

अंगुलहाड़ा (whitlow)  Whitlow- Symptoms, Reasons, Causes   परिचय:- यह रोग अधिक कष्टकारी हो जाता है। यह रोग अंगुली के अगले भाग में होता है। इस रोग में अंगुली में कुछ चुभने के बाद पहले हल्का दर्द उत्पन्न होता है और फिर वहां छोटा सा दाना उत्पन्न हो जाता है। इसके बाद अंगुली का दाना धीरे-धीरे बड़ा होने लगता है और उस दाने में पानी भर जाता है। इससे तेज दर्द...

Read More »

Herbal Home remedies for General Diseases”,”Smanya Rog”,” Short Height”,“Chote Kadd ka Gharelu Ilaj”,Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

छोटा कद (Short height)  Short Height-Symptoms, Reasons, Causes   परिचय:- बहुत से व्यक्ति होते हैं जिनका कद सामान्य से काफी छोटा होता है, उनकी उम्र के बढ़ने के हिसाब से उनका कद बहुत ज्यादा कम रह जाता है जिसके कारण उन्हें समाज में हीनभावना का शिकार भी होना पड़ता है। यह रोग अनुवांशिक कारणों से भी होता है। चिकित्सा– जिन लोगों का कद छोटा होता है उन लोगों को कद...

Read More »

Herbal Home remedies for General Diseases”,”Smanya Rog”,” Jaundice”,“Piliya ka Gharelu Ilaj”, Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

पीलिया या कामला (Jaundice)  Jaundice- Symptoms, Reasons, Causes   परिचय:- यह रोग मुख्य रूप से दूषित भोजन करने और दूषित पानी पीने के कारण होता है। यह रोग अधिक तैलीय पदार्थ तथा बासी भोजन करने से होता है। इस रोग में रोगी के शरीर में खून की कमी होने लगती है। शरीर में खून की कमी के कारण रोगी का पूरा शरीर पीला हो जाता है। इस रोग में रोगी...

Read More »

Herbal Home remedies for General Diseases”,”Smanya Rog”,”Mumps”,“ Karnmool Pdrah/Mumps ka Gharelu Ilaj”, Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

  कर्णमूल प्रदाह (Mumps)  Mumps- Symptoms, Reasons, Causes     परिचय:- कर्णमूल प्रदाह एक कान का रोग है, जो कान के निचले भाग में होता है। इस रोग में कान की ग्रंथियां फूल जाती हैं, जिससे कान में तेज दर्द और जलन उत्पन्न होते हैं। कान के निचले भाग में सूजन होने पर यह लाल रंग का हो जाता है और उसमें तनाव व तेज दर्द होता है। साथ ही...

Read More »

Herbal Home remedies for Chronic Amoeba Diseases”,” Amoeba Rog”,”Chronic Amoeba”,“ Amoeba Rog ka Gharelu Ilaj”, Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

पुरानी अमीबा का रोग  Chronic amoeba disease   परिचय:- यह एक प्रकार का ऐसा रोग है जो बहुत अधिक व्यक्तियों को होता है। यह रोग अधिकतर गंदी आदतों तथा गंदगी के कारण होता है। जब यह रोग किसी व्यक्ति को हो जाता है तो उसे जल्दी ही इसका उपचार करना चाहिए नहीं तो यह रोग बढ़कर अमीबा रुग्णता तथा फेफड़ों में जख्म बना सकता है। पुरानी अमीबा का रोग होने...

Read More »

Herbal Home remedies for Urticaria Diseases”,”Pitti ka Rog”,”Urticaria”,“Pitti Uchlne ka Gharelu Ilaj”, Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

पित्ती का उछलना (Urticaria disorder)  Urticaria- Symptoms, Reasons, Causes   परिचय:- शरीर में मौजूद तीन धातुओं में वात, कफ और पित्त होता है। जब शरीर में पित्त की मात्रा अधिक हो जाती है या किसी कारण से शरीर में पित्त का प्रकोप बढ़ जाता है तो उससे उत्पन्न होने वाले विकार को पित्ती का उछलना कहते हैं। पित्त से उत्पन्न विकार गर्मी के रूप में शरीर से बाहर निकलता है,...

Read More »

Herbal Home remedies for Bile Diseases”,”Pitt ka Rog”,”Vulval pain”,“Pitt Rog ka Gharelu Ilaj”, Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

पित्त का रोग (Bile disorder) Vulval pain-Symptoms, Reasons, Causes   परिचय:- पित्त के कारण होने वाले रोग को जानने से पहले हमें यह जानने की आवश्यकता है कि पित्त का शरीर में काम क्या है ? शरीर का स्वास्थ्य ठीक प्रकार से बना रहे इसके लिए जिगर का शरीर में कम से कम आधा किलो से लेकर 1 किलो तक की मात्रा में पित्त का निर्माण करना आवश्यक होता है।...

Read More »

Herbal Home remedies for General Diseases”,”Smanya Rog”,” Vulval pain”,“Pedu main Dard ka Gharelu Ilaj”, Symptoms, Reasons, Causes-“Herbal Treatment”

पेड़ू में कोई रोग होने पर दर्द-(Vulval pain)  Vulval pain-Symptoms, Reasons, Causes   परिचय:- इस रोग में रोगी के पेड़ू के भाग में दर्द होता रहता है तथा यह दर्द इतना तेज होता है कि रोगी व्यक्ति को दर्द सहना मुश्किल हो जाता है। पेड़ू के हिस्से में दर्द से पीड़ित व्यक्ति का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार–           इस रोग में जब तक रोगी का दर्द न ठीक हो जाए...

Read More »