Home » Archive by category "Herbal Medicine Plants" (Page 40)

“Grapes (अंगूर)” beneficial for Heart patients and debilitating disease in Ayurveda

अंगूर अंगूर का फल अधिक शक्तिशाली है | इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह गले से उतरते ही खून में घुल जाता है | अंगूर हर प्रकार के रोगियों के लिए बहुत लाभकारी है विशेष रूप से ऐसे रोगी जो बीमारी के कारण दुर्बल हो गए तो इसका रस पीने से शरीर में नई शक्ति आती है | ह्रदय रोगियों के लिए अंगूर का सेवन अच्छा रहेगा |...

Read More »

“Pomegranate (अनार)” multiple uses in Ayurveda

अनार एक अनार सौ बीमार कहावत संसार में प्रसिद्ध है | यह कहावत तो आपने बहुत बार सुनी होगी, लेकिन इसके पीछे क्या रहस्य है, यह आपको नहीं पता होगा | आओ, इसके विषय में पहले आपको बता दें | एक अनार इतना गुणकारी होता है कि उससे अनेक रोगों का उपचार हो सकता है | किसी वैद्द् या हकीम के पास एकदम से इतने अधिक रोगी आ गए कि...

Read More »

“Lemon (नींबू)” natural gift and largest health guard for mankind

नींबू नींबू के विषय में सभी स्वास्श्य्शास्त्री एकमत होकर कहते हैं कि नीबू एक प्राकृतिक वरदान है जो मानव जाति का सबसे बड़ा स्वास्थ्य-रक्षक है, जिसे आमतौर पर लोग यही कहते हैं कि नींबू “लाख दुखों की एक दवा है |” यह बात गलत नहीं है, हम नींबू द्वारा एक नहीं अनेक रोगों का उपचार अपने-आप कर सकते है | नींबू एक घरेलू डॉक्टर है जो बिना किसी फीस के...

Read More »

Multiple uses of “Black Pepper (काली मिर्च)” in Ayurveda

काली मिर्च संस्कृत नाम – मरिच, सित मरिच काली मिर्च की तासीर गर्म तथा वायु रोगों को समाप्त करने वाली है | इसके बड़े-बड़े वृक्ष अधिकतर सागर-तट के आस-पास के क्षेत्रों में ही होते हैं | आमतौर पर मिर्च एक लता के रूप में ही हमें मिलती है | मिर्च का पका फल लाल हो जाता है | इसे उतार कर सुखाने से यह फल काला हो जाता है |...

Read More »

Beneficial uses of “Spota (Cheeku)” for fever patients

चीकू यह फल है | इसके वृक्ष काफी बड़े होते हैं जिन पर खाकी (भूरे) रंग के चीकू लगते हैं, जो पकने के पश्चात् शहद जैसे मीठे हो जाते हैं | बुखार बुखार के रोगियों के लिए चीकू खाना बहुत लाभदायक माना गया है, जो लोग मोटे और शुगर का शिकार हैं, उन्हें चीकू का सेवन नहीं करना चाहिए | Naseberry It is the fruit . The trees are much...

Read More »

Medicine uses of “सिंघाडा” (Water Chestnut) in Ayurveda

सिंघाडा न धरती, न आकाश, सिंघाड़ा इन दोनों में से कहीं पैदा नहीं होता, इसका जन्म केवल पानी के अंदर होता है | हरे रंग का सिंघाडा एक ऐसे जल का फल है जिसे कच्चा-पक्का दोनों ही रूपों में खाया जाता है | हरे रंग के सख्त छिलके के अंदर नर्म तथा सफ़ेद रंग का गूदेदार फल निकलता है, जिसके द्वारा हम इन रोगों का उपचार कर सकते हैं :...

Read More »

Medicinal uses of “Shahtoot (शहतूत)” in Ayurveda

Mulberry The mulberry tree is very big and powerful spread . The fruit is very sweet and tasty . Addresses the tree, the fruit of all the work to get wooden . Heat stroke patient quickly mulberry juice Feed . If the addresses do not receive prompt juice Mix sugar candy juice drink one hour after the patient is reduced Impact of Lu . In the summer, or they may...

Read More »

Medicinal uses of “Oleander” “Kaner” in Ayurveda

Oleander (Kaner) Oleander plant, is quite spread. There are two types of Flower. So with a Flower white, white oleander, which we recall the name of the second, with  red  Flower oleander, which mostly comes into view. Those who have bad blood, or are suffering from skin diseases, the root of the oleander boil 100 grams of 4 kg Dus stay. Freezing the milk to make the cheese, then create butter ghee...

Read More »