Home » Archive by category "Ayurvedic Help" (Page 2)

How to boost own confidence, To stay mentally healthy also requires confidence, Home Remedies

आत्मविश्वास में कमीं  न आने दें    मानसिक तौर पर स्वस्थ रहने के लिए भी आत्मविश्वास की जरूरत होती है | विपरीत हालात होते हुए भी वह सुखी रह जाएगा | भागमभाग की दुनिया में भी वह सुखी रह सकता है | चिंता तथा तनाव से बचकर चलना आज बहुत कठिन है | निराशावादी होंगें, आत्मविश्वास में कमी होंगी तो और भी मुश्किल | शरीर तथा मन का घनिस्ट सम्बन्ध...

Read More »

Simple treatment of vomiting, Home Remedies.

उलटियां रोकने के सरल घरेलु उपचार उल्टियाँ आने के कारण तथा उपचार इस प्रकार है – जी मिचलाने से भी उलटी आ जाती है | जिसे अम्ल पित्त की तकलीफ हो, उसे भी उलटी आ जाती है | पाँव भरी होने पर भी उलटी आ जाती है | सामान्य उलटी हो तो कोई बात नहीं, अधिक उल्टियाँ आएं तो उपचार जरूरी | यदि आप यात्रा में हैं तो अपनी जेब...

Read More »

Best Domestic medicines prevents from diseases. Herbalogy

रोगों से बचाती है घरेलू औषधियाँ वह व्यक्ति भाग्यशाली होता है जिसे रोग नहीं घेरते | जो स्वस्थ रहकर अपनी जिंदगी का आनंद लेता है | किसी को भी रोग हो ही न तो अच्छा | यदि हो भी जाए तो उनसे छुटकारा पाने के लिए अपने डॉक्टर आप बनें | छोटे छोटे रोगों को प्राक्रतिक उपायों से दूर करना कठिन नही है | जरुर है इन्हें जानने और आजमाने...

Read More »

Medicinal uses of “Chameli” in Ayurveda

चमेली संस्कृत नाम – ज्ञाती चमेली अपने फूलों के कारण काफी लोकप्रिय है,  इसका पौधा छोटा सा ही होता है | पते हरे, फुल सफ़ेद होते हैं | इसके फूलों को जो कोई सिरदर्द का रोगी सूंघ लें तो सिरदर्द दूर हो जाता है | चमेली के फूलों का गंध ह्रदय रोगियों के लिए बहुत लाभकारी है | जिन लोगों के मुहं में छाले रहते हों उन्हें चमेली के पते...

Read More »

Medicinal uses of herbal plant “Ativisha” in Ayurveda

अतिविषा यह चिरआयु वाला पौधा होता है | इसकी लंबाई करीब 30 से.मी. लेकर 100 से. मी. तक होती है | इस पर नीले रंग के फुल आते हैं | इस पर पांचधारी वाला काला फल लगता है जिसके अंदर 20 से 25 तक बीज होते हैं | यह पौधा हिमालय पहाड़ की 2100 से.मी. से लेकर 3800 से.मी. तक की ऊंचाई पर पाया जाता है, जिसे आप जुलाई, अगस्त,...

Read More »

Medicinal uses of herbal plant “Ashoka” in Ayurveda

अशोक  संस्कृत नाम – हेमपुष्प, ताम्र, पल्लव अशोक के वृक्ष, मध्य एवं पूर्वी हिमालय, बंगाल तथा दक्षिण भारत में आशिक पाए जाते हैं | प्राकृतिक रूप से पैदा होने वाला अशोक वाटिकाओं में, जंगलों में दिखाई देगा | इसका वृक्ष बिलकुल सीता खड़ा होता है | पतली टहनियों पर लंबे-लंबे हरे पते मन को भाते हैं, जो बहुत कोमल होते हैं | इन पर फल और फूल वसंत ऋतू में...

Read More »

Medicinal uses of “Gulab Flower (Rose)” in Ayurveda

गुलाब संस्कृत नाम – तरुणी, श्यमत्री, दुब्जक   गुलाब का पौधा भी छोटा ही होता है | फूलों का राजा कहा जाने वाला गुलाब का फुल सबके ही मन को भाता है | इसकी गंध मन को प्रसन्न कर देती है, दिमाग को ताजा बनाकर उसकी थकान दूर कर देती है |   गुलाब के फूलों से बनने वाली गुलकंद को रात को सोते समय, 250 ग्राम दूध के साथ...

Read More »

Medicinal uses of “Mongra” or “Radish” plant in Ayurveda

मोंगरा संस्कृत नाम – वार्थिक, मल्लिका  मोंगरे का पौधा छोटे कद का होता है | इस पर लंबे-लंबे हरे रंग के फल लगते हैं | जिन्हें मुंगरे की फलियां भी बोला जाता है | उनकी सब्जी बनाकर लोग खाते हैं | फोड़े-फुंसियों तथा चर्म रोगों के लिए  मोंगरे के पतों को पीसकर उनकी लुगदी तैयार कर लें | उस लुगदी को देसी घी में छोंककर गर्म करके फोड़े-फुंसियों तथा चर्म...

Read More »