Home » Archive by category "Ayurveda" (Page 3)

“Possible to reduce obesity (मोटापा कम करना संभव)” Cause and Prevention

मोटापा कम करना संभव मोटापा हमें केवल कुरूप ही नहीं बनाता, अनेक रोगों का भी घर होता है । इसे कम करने के हरसंभव प्रयत्न करने जरूरी हो जाते हैं । मोटापा होने का मुख्य कारण हमारा गलत खान-पान है । जब हम शरीर की आवश्यकता से अधिक खा लेते हैं तब मोटापा तो होगा ही । आयु, कार्य, स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर जितनी खुराक खानी चाहिए, उतने में...

Read More »

“Regular and Needs to be Balanced (नियमित व संयमित रहना जरूरी)” in daily life

नियमित व संयमित रहना जरूरी यदि हमारा तन व मन दोनों स्वस्थ हों, तभी हम सभी सुख-सुविधाओं का आनंद ले सकते हैं । तन और मन में कोई विकार न हो – तन और मन स्वस्थ रखने के लिए अपने आहार की तो मुख्य भूमिका है ही, साथ ही रहन-सहन का भी बड़ा प्रभाव पड़ता है । अचार-विचार भी शुद्ध तथा उच्च चाहिए । पूरी तरह निरोग तथा स्क्स्थ रहने...

Read More »

“Indian Asparagus (शतावरी)” beneficial for Toxic substances, poisons

शतावरी शतावरी का रस निकालकर घावों पर लगाने से हर परकार के घाव एक सप्ताह में भर जाते हैं । विषैले पदार्थों का जहर जिन लोगों को विषैली पदार्थों का जहर चढ़ जाए उन्हें शतावरी की जड़ पीसकर 10 ग्राम प्रतिदिन पानी के साथ सेवन करना चाहिए । Indian Asparagus Asparagus juice and apply on the wounds of all the dividers are wound around a week. Toxic substances, poisons Those...

Read More »

“Kalahari (कलिहारी)” benefits for health in Ayurveda

कलिहारी संस्कृत नाम – कलिहारी इसके पत्ते अधिक गुणकारी होते हैं। इसके पत्तों का रस निकालकर रतवाय रोग में लगाने से रोग शांत हो जाता है । पहचान के लिए चित्र देखें । कलिहार की जड़ को पीसकर मधु और काला नमक (पिसा हुआ), इन तीनों का लेप तैयार करके योनि पर लगाने से रुका हुआ मासिक धर्म फिर से प्रारंभ हो जाता है । कलिहारी की जड़ सिरसा के...

Read More »

“Bauhinia (कचनार)” benefits for mouth blisters and teeth pain

कचनार संस्कृत नाम – कचनार कचनार कर वृक्ष बहुत बड़ा होता है जैसे आप चित्र में देख रहें हैं | कचनार के फल के रूप में फलियां लगती हैं | इन फलियों की सब्जी बनाकर खाई जाती है | मुहं के चाले तथा दातों के रोगों के लिए – कचनार की छाल, अथवा पत्ते           6 ग्राम कत्था सफ़ेद          3 ग्राम फिटकरी        ...

Read More »

“Acacia (Babbul) ” tree benefits in Ayurveda

बबुल बबूल का वृक्ष कांटेदार होता है | इसका कद लंबा और घना होकर चारों और फैला रहता है । बबूल का दातुन करने से मुंह की गंध नष्ट हो जाती है और दांतों के रोग दूर हो जाते हैं | आंखों के रोग में बबूल की छाल को पीसकर मिट्टी के मटके पर लगा दें | दो घंटे के पश्चात् उसका आंखों पर लेट करें लेप को आँख के...

Read More »

Exclusive benefits of “Blackberry (Jamun)” fruit for diabetes

जामुन जामुन का वृक्ष बहुत लंबा चौड़ा तथा घना होता है | इसकी छाया भी धनी होती है, परंतु इस पर लगने वाले फल छोटे और पकने पर काले गहरे नीले रंग के होते हैं | प्रकृति ने मानव जाति के सुखों तथा निरोगी जीवन को बनाए रखने के लिए जो उपहार दिए हैं; उनमें से जामुन को एक विशेष स्थान प्राप्त है | इसका फल गर्मी के मौसम में...

Read More »

“Cucumber (ककड़ी)” benefits for health

  ककड़ी ककड़ी का फल लम्बा, हरा तथा स्वाद में कुछ भी नहीं | तासीर में ठंडा, इसका पौधा बेल के आकर में धरती पर बिछा रहता है, इसको अधिकतर कच्चा खाया जाता है | जिन लोगों के पेट खराब रहते हों, उन्हें ककड़ी, प्याज, टमाटर इन तीनों का सलाद बनाकर नमक कालीमिर्च छिडककर ऊपर से नींबू का रस निचोड़कर तथा सुबह-शाम दोपहर भोजन के साथ सेवन करने से पेट...

Read More »