Home » Herbal Medicine Plants » “Ash Gourds (पेठा)” medicinal uses in Ayurveda

पेठा

pethaपेठा का पाक उपदंश (गर्मी) और रसकपूर से देह फूट वह को शांत करता है । पेठे का पाक बनाने से निभित्त उसको उबालकर ठीक कतरा करें । शक्कर की चाशनी बनाएं, उसमें सालम, इलायची, बंशलोचन, गोखरू, विदारीकन्द-द्किख्नी अनुमान से डालकर खाएं तो गर्मी रोग जाए, तथा जंगली बकरी का दूध, पेठा का पानी एक छटांक मिलाकर दो सप्ताह पीवें तो गर्मी रोग जाए, परंतु परहेज करें ।

गुण तथा लाभ

पेठे का रस पीने से विष का असर कम होता है | मुलेठी के चूर्ण के साथ पेठे का रस पीने से मूर्च्छा और उन्माद रोग शांत हो जाता है ।

पेठा की पत्ती व् हल्दी का चूर्ण दही के साथ खाने से 1 सप्ताह में कामला रोग नष्ट होता है ।

 

Ash Gourds

petha1Pakistan Ash Gourds syphilis (heat) and corrosive sublimate it calms the body burst. Boil the right side to make it to the baking of Ash Gourds Nibitt. Make sugar syrup, it Salmond, cardamom, Bnshlochn, bunions, Vidariknd-Dkikni estimates put the heat disease should eat, and wild goat milk, water Ash Gourds a Ctank Piven have combined two weeks to heat illness, but to avoid.

Properties and Advantages

Ash Gourds juice is less affected by the toxin. Ash Gourds with liquorice powder juice unconsciousness and hysteria disease goes down.

Ash Gourds persons turmeric powder with curd eating leaf 1 week gravis disease is destroyed.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name
Email
Website